Navratri Colours - नवरात्रि के नौ कलर किस दिन कौन सा कलर पहनना चाहिए।

Navratri Colours

नवरात्रि आरंभ हो चुके है और भक्तों में माँ दुर्गा की पूजा को लेकर बहुत उत्साह रहता है। यह फेस्टिवल माता रानी के नौ रूपों को समर्पित है जिन्हें नौदुर्गा कहा जाता है। नवरात्रि में प्रत्येक दिन के लिए अलग-अलग कलर निर्धारित है जिनका विशेष महत्त्व है। आज इस लेख में हम नवरात्रि के नौ कलर के बारे में बताएंगे कि कौन से दिन किस कलर की साड़ी या कपड़े पहनने चाहिए।

नवरात्रि के नौ कलर ( Navratri Colours)


जैसे माँ दुर्गा के नौ रूप है वैसे ही प्रत्येक रूप से संबंधित उनका प्रिय रंग है यदि आप प्रत्येक दिन माता रानी को जो कलर पसंद है वह धारण करके उनकी पूजा औऱ आराधना करते है तो अधिक शुभ होता है और दुर्गा माँ प्रसन्न होती है।

नवरात्रि पहला दिन - पीला कलर (Yellow Colour)


पहला दिन माता शैलपुत्री का होता है जो की पर्वतराज हिमालय की पुत्री है माता को पीला रंग बहुत पसंद है यह चमक और खुशहाली का प्रतीक है। यदि आप नवरात्रि के पहले दिन पीले रंग की साड़ी या कपड़े पहन कर और इसी रंग का भोग लगाकर माँ शैलपुत्री की आराधना करते है तो माता अति प्रसन्न होती है।

नवरात्रि दूसरा दिन - हरा रंग (Green Colour)


नवरात्रि का दूसरा दिन माँ ब्रम्हचारिणी का होता है और भक्तजन उनकी पूजा और आराधना करते है। माता रानी को हरा कलर बहुत प्रिय है जो कि नई शुरुवात और प्रगति का प्रतीक है यदि आप दूसरे दिन हरे रंग की साड़ी या कपड़े पहनकर माँ ब्रम्हचारिणी की पूजा अर्चना करते है औऱ उन्हें हरे रंग का भोग समर्पित करते है तो माता अति प्रसन्न होती है और मनवांक्षित फल प्रदान करती है।

नवरात्रि तीसरा दिन - भूरा रंग ( Grey Colour)


नवरात्रि के तीसरे दिन देवी माँ चंद्रघंटा की पूजा की जाती है जिन्हें भूरा रंग अति प्रिय है जो कि बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक माना जाता है अतः इस दिन भूरे रंग की साड़ी या कपड़े पहनकर माता की पूजा करनी चाहिए इससे माता चद्रघंटा की कृपा प्राप्त होती है।

नवरात्रि चौथा दिन - नारंगी रंग (Orange Colour)


यह दिन देवी कुष्मांडा को समर्पित है जो की दुर्गा माँ का चौथा स्वरूप है इन्हें नारंगी रंग बहुत पसंद है जो कि ज्ञान और शांति का प्रतीक है। नवरात्रि के चौथे दिन भक्त जनों को देवी की आराधना के लिए नारंगी रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए और इसी कलर के फल फूल समर्पित करने चाहिए।

नवरात्रि पांचवा दिन - सफेद रंग (White Colour)


पांचवा दिन देवी स्कन्दमाता का होता है और सभी भक्त इन्ही की आराधना करते है इन्हें सफेद रंग अत्यंत ही प्रिय है जो कि पवित्रता, शांति और ध्यान का प्रतीक माना जाता है। नवरात्रि के पांचवे दिन भक्तजनो को सफेद रंग के वस्त्र पहनने चाहिए और इसी रंग के फल फूल अर्पित करके माता रानी को प्रसन्न करना चाहिए।

नवरात्रि छठा दिन - लाल रंग (Red Colour)


देवी माँ कात्यायनी की पूजा नवरात्रि के छठे दिन की जाती है इनको लाल रंग बहुत ही पसंद है यह निडरता और सुंदरता का प्रतीक है। इसलिए भक्तों को छठवें दिन इसी कलर के वस्त्र धारण करने चाहिए और लाल रंग के पुष्प और फल माता रानी को अर्पित करने चाहिए। 

नवरात्रि सातवां दिन - नीला रंग (Blue Colour)


सातवें दिन देवी कालरात्रि की पूजा की जाती जिन्हें काली, भद्रकाली और चामुंडा माता भी कहते है इन्हें नीला रंग बहुत ही प्रिय है यह कलर दिव्य ऊर्जा का प्रतीक माना जाता है।  इसलिए भक्तों को नवरात्रि के सातवें दिन माता काली को प्रसन्न करने और उनकी पूजा अर्चना करने के लिए नीले कलर के वस्त्र धारण करने चाहिए और हो सके तो पूजा में नीले कलर की ही वस्तुओं का प्रयोग करना चहिए।

नवरात्रि आठवां दिन - गुलाबी रंग (Pink Colour)


माँ दुर्गा का आठवां रूप है देवी महागौरी जो भक्तों की मनोकामना पूरी करने वाली और सुख समृद्धि प्रदान करने वाली है। देवी माँ को गुलाबी रंग बहुत ही प्रिय है जिसे शास्त्रों में करुणा और पवित्रता का प्रतीक माना गया है। माता के भक्तों को नवरात्रि के आठवें दिन गुलाबी रंग की साड़ी या कपड़े पहनने चाहिए और इसी रंग के फल - फूल माता को चढ़ाने चाहिए।

नवरात्रि नौवां दिन - बैंगनी रंग (Purple Colour)


नवरात्रि का समापन माता सिद्धिदात्री की पूजा अर्चना के साथ होता है देवी को बैगनी कलर अत्यंत प्रिय है जो कि ऊर्जा का प्रतीक है इएलिये भक्तों को नवरात्रि के आखिरी दिन बैंगनी रंग की वस्तुओ का प्रयोग पूजा में करना चहिए और इसी रंग के वस्त्र धारण करने चाहिए। 

भक्तजन यंहा बताये गए नवरात्रि के कलर के अनुसार यदि दुर्गा माँ के नौ स्वरूपों की विधि विधान और श्रद्धा पूर्वक पूजा अर्चना करते है तो उन्हें माता की विशेष कृपा प्राप्त होती है।

ये भी पढ़े : -


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ