सकारात्मक कैसे सोचें और इसके क्या फायदे है ?

आज इस लेख में हम बात करेंगे कि सकारात्मक कैसे सोचे और इसके क्या फायदे है। यदि आप खुशनुमा जिंदगी जीना चाहते है तो आज से ही अपने विचारों में परिवर्तन कीजिए और सकारात्मक सोचना प्रारम्भ कर दीजिए इससे आप बहुत सी बीमारियों से दूर रहेंगे और आपको सफलता भी बहुत तेजी से मिलेगी।
हमारी लाइफ में बहुत से ऐसे पल आते है जब हम निराश और परेशान हो जाते है ऐसे में सकारात्मक विचारों का बहुत महत्त्व होता है क्योंकि इससे हमें वह ऊर्जा मिलती है जो हमे किसी भी हालात से लड़ने के लिए तैयार करती है। नकारात्मक विचार हमें खोखला बना देते है और हम वह नही कर पाते जो हम करना चाहते है इसलिए ऐसे विचारों से दूर रहे जो आपको खोखला बना दे और आपको कमजोर कर दे।

सकारातमक ( positive) और नकारात्मक ( nigetiv) विचार ये दोनों ही हमारे दिमाग की उपज होते है जिनसे आप आसानी से छुटकारा पा सकते है। आज हिम आपको बताएंगे कि आप अपने मन मे सकारात्मक विचार कैसे सोचें इसके लिए आपको बस अपने मन मे अच्छे- अच्छे विचारों को भरना है और ऐसे विचार जो आपको परेशान कर दे या दुविधा में दाल दे उनसे दूर रहना है।

दोस्तो हमारा जो दिमाग है यह एक मेमोरी कार्ड की तरह कार्य करता है जिसमे प्रतिदिन आप जो करते है या देखते है वह स्टोर होता रहता है और जब आपको जरूरत होती है तो यह आपको वैसे ही विचार निकाल कर देता है जैसा कि आपने अपने प्रतिदिन की दिनचर्या से इसमें भरा होता है यदि आप नकारात्मक विचारों को अपने दिमाग मे स्थान देंगे तो वक्त पड़ने पर वही विचार निकल कर आएंगे और यदि अपने मस्तिष्क के पॉजिटिव विचार भरेंगे तो जब आपको कोई महत्त्वपूर्ण निर्णय लेने की आवश्यकत होगी तो पॉजिटिव विचार की वजह से आप आसानी से ले पाएंगे।

सकारात्मक कैसे सोचे

हम अपने जीवन मे तरह तरह की घटनाएं देखते है और बहुत सी किताबे पढ़ते है टीवी फ़िल्म वगैरह देखते है हम न चाहे तब भी ये सब हमारे दिमाग मे प्रवेश कर जाता है और उसमें स्टोर हो जाता है इसलिए पॉजिटिव थिंकिंग के लिए सबसे जरूरी है की आप वही काम करे जो सही हो इससे आपके मन में अपराध का बोध नही होता है और मन प्रसन्न रहता है। हमारा मन बहुत पावरफुल होता है यह कुछ भी कर सकता है और आपसे कुछ भी करवा सकता है इएलिये इसमें हमेशा पॉजिटिव विचारों को ही भरे और जब भी आपके मन मे कोई निगेटिव विचार आये तो तुरंत उसे अपने मन से निकाल दे और कुछ ऐसा करने लग जाये जिससे आपके मन मे पॉजिटिव विचार आ सके।

मैं आपको यंहा पर नकारात्मक और सकारात्मक विचारों को लेकर एक उदाहरण देना चाहूंगा जैसे कि आप सुबह उठते है और अपने मन से कहे आज बहुत खराब मौसम है आज का दिन अच्छा नही जाएगा तो सचमुच वह दिन आपका अच्छा नही जाने वाला है क्योंकि आपने पहले से ही निगेटिव सोच लिया है वंही इसकी बजाय यह सोचें आज मौसम बहुत अच्छा है और मैं अपने आपको बहुत ऊर्जावान महसूस कर रहा हूँ आज का दिन मेरा बहुत अच्छा जाएगा तो ऐसा होगा भी क्योंकि इससे बहुत फर्क पड़ता है।

निगेटिव आदमी अपने जीवन मे कुछ नही कर पाता है वह बस बहाने बनाता रहता है उसको तो बस एक बहाना चाहिए काम न करने का ऐसे लोग हमेशा रोना रोते रहते है कि काश मैं ये कर लेता वो कर लेता लेकिन समय किसी की नही सुनता है यदि आप सही समय पर सही निर्णय नही लेते है तो आप की लाइफ ऐसे ही निकल जाती है और आप किसी भी मुकाम पर नही पहुँच पाते है इसलिए आज से ही पॉजिटिव थिंकिंग की आदत डालें।

ऐसी घटनाओ को जो हमे हीन महसूस कराए या हमे दुखी करे जितनी जल्दी हो अपने दिमाग से निकाल दे क्योंकि इनको बार बार याद करने से वह हमारे दिमाग मे अपना डेरा बना लेती है और हमे परेशान करती रहती है। सकारात्मक सोचने के लिए अपने दिमाग मे हमेशा अच्छी घटनाओ को याद करे और अपने आप को किसी से कम न आके साफ सुथरे और प्रेस किये हुए कपड़े पहने क्योंकि पहनावे का भी प्रभाव पड़ता है ऐसे किताबे पढ़े जो आपको प्रेरित करे और उनसे कुछ सीखने को मिले अश्लील साहित्य और फिल्मों से दूर रहे क्योंकि गलत विचार हमारे दिमाग मे बहुत जल्दी प्रवेश कर जाते है जबकि अच्छे विचारों के लिए हमे बहुत मेहनत करनी पड़ती है।

सकारात्मक सोच के फायदे

दोस्तो सकारात्मक सोच के बस फायदे ही है इसका कोई नुकसान नही है क्योंकि इससे हमारी जिंदगी बदल जाती है हमारी निर्णय लेने की छमता में इजाफा होता है और हम अपने कार्यो को निश्चित समय पर पूरा कर पाते है हमारा शरीर, मन और दिल सभी स्वस्थ रहते है और हम ऐसे खुशनुमा मनुष्य बन जाते है जिसको सब पसंद करते है। निगेटिव लोग न अपना भला कर पाते है और न ही दूसरों के उनसे सभी लोग परेशान रहते है उनका आधा समय केवल फिजूल की बाते सोचने में चला जाता है वह अंत तक किसी निर्णय पर नही पहुँच पाते है यदि निर्णय कर भी ले तो उस पर अडिग नही रह पाते है क्योंकि उनका मन स्थिर नही होता है वह काम से ज्यादा फल की चिंता करते है जिससे वह पल पल में अपने निर्णय बदलते रहते है।

सकारात्मक सोच से हमारी जिंदगी बदल जाती है हम अधिक कार्यशील बन जाते है और हमारे नेतृत्व क्षमता में भी विकास होता है हमारी लाइफ आसान हो जाती है जिस काम को अपने हाँथ में लेते है उसे पूरा करके ही दम लेते है। पॉजिटिव आदमी हर जगह अच्छाई ही देखता है वह लोगो से प्यार करने वाला होता है दूसरे के विचारों का सम्मान करता है इसलिए सभी उसको पसंद करते है और वह निरंतर अपने लक्ष्य की ओर बढ़ता जाता है यदि कभी कोई भटकाव आ भी जाए तो उसके अंदर ऐसी क्षमता विकसित हो जाती है जिससे वह आसानी से किसी भी मुश्किल का सामना कर सकता है।

दोस्तो यदि आपके अंदर भी नकारात्मक विचार बहुत आते है तो उनसे छुटकारा पाईये क्योंकि ये आपके जीवन को ऐसी दिशा में ले जाएंगे जंहा आप हर चीज को शक की निगाह से देखोगे जैसे ये हो गया तो ऐसा हो गया तो मैं फेल हो गया तो मेरा एक्सीडेंट हो गया तो मैं पढ़ने में अच्छा नही हूँ अपने दिमाग मे हमेशा सकारात्मक विचार भरे और अपने मन के गुलाम न बने बल्कि अपने मन को अपना गुलाम बनाये।
अपने आप से जब भी बात करे तो सकारात्मक तरीके से ही करे।

ये भी पढ़े :-

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ